Chhattisgarh Election 2023: बागियों ने मचाई सियासी गलियारों में खलबली, चुनावी बिसात में फेर सकते हैं पानी, शुरू हुआ मनाने का दौर

0
23

रायपुर: कांग्रेस-भाजपा के बागी पार्टियों के लिए चुनौती बन गए हैं। प्रदेश में कुछ सीटें ऐसी हैं, जहां दावेदार रहे नेताओं ने निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए नामांकन भर दिया है। इनमें रायपुर उत्तर से लेकर कसडोल, मनेंद्रगढ़, रायगढ़, महासमुंद, गुंडरदेही आदि विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। इन सीटों पर अब त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना जताई जा रही है। विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को नामांकन पत्र जमा करने का अंतिम दिन था। इसके बाद दो नवंबर तक अभ्यर्थी अपने नाम वापस ले सकते हैं। नामांकन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद भाजपा और कांग्रेस का पूरा जोर बागी नेताओं को मनाने पर है।

Read more: Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने महासमुंद से भरा नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति… 

बागियों को मनाने झोंकी ताकत : बागियों को मनाने के लिए दोनों ही राजनीतिक दलों ने ताकत झोंक दी है। टिकट की चाह में दल बदलने का खेल कम ही सही, मगर इससे पार्टियों पर दबाव बढ़ गया है। दलबदलू नेताओं में कुछ वैसे भी हैं जिन्होंने दल तो बदल लिया, मगर उन्हें टिकट नहीं मिल पाया। ऐसी स्थिति में उनके सामने विकट स्थिति बन गई है।

Read more: Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने महासमुंद से भरा नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति… 

मनाने का सिलसिला जारी, पदों का भी प्रस्ताव : रूठे को मनाने के लिए पार्टियों के बड़े नेता बागियों से संपर्क साधने में जुट चुके हैं। नाम वापसी के लिए केवल दो दिन का समय शेष है। सूत्रों के अनुसार, पार्टी से अलग होकर चुनौती देने वाले बागियों को पदों का प्रस्ताव दिया जा रहा है। कहा जा रहा है कि सरकार बनने के बाद इन्हें निगम व अन्य मंडलों में बड़े पद दिए जाएंगे।

Read more: Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने महासमुंद से भरा नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति… 

कुकरेजा की भीड़ ने बढ़ाई चिंता : कांग्रेसी पार्षद अजीत कुकरेजा ने टिकट नहीं मिलने के बाद निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में रायपुर उत्तर से नामांकन भर दिया है। नामांकन के दिन उनकी रैली में जिस तरह से भीड़ उमड़ी, इससे दिग्गज परेशान हैं। उन्हें मनाने का दौर शुरू हो चुका है। इधर, रायपुर ग्रामीण से भाजपा नेता सावित्री जगत भी पार्टी से नाराज चल रही हैं। टिकट नहीं मिलने के बाद उनके तेवर बदल चुके हैं।

Read more: Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने महासमुंद से भरा नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति… 

सामरी में बदला समीकरण : कांग्रेस विधायक चिंतामणि महाराज के भाजपा में शामिल होने के बाद इस विधानसभा में समीकरण बदलने की संभावना जताई जा रही है। कांग्रेस के यह तीसरे विधायक हैं, जिन्होंने बागी तेवर अपनाए हैं। चिंतामणि महाराज वर्तमान में बलरामपुर जिले के सामरी सीट से विधायक हैं। पार्टी सूत्रों के अनुसार, उन्हें लोकसभा में जिम्मेदारी दी जा सकती है। सामरी सीट से कांग्रेस ने वर्तमान में विजय पैकरा को उम्मीदवार बनाया है।

Read more: Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने महासमुंद से भरा नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति… 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here