Chhattisgarh Election : 70 सालों से छत्तीसगढ़ के इस विधानसभा सीट को नहीं जीत पाई बीजेपी, पीएम मोदी का भी नहीं चला जादू…

0
23

रायपुर । मध्यप्रदेश की सीमा से लगी हुई छत्तीसगढ़ की कोटा विधानसभा में बीजेपी अभी भी कमल खिलाने के लिए जद्दोजहद कर रही है। 1952 से लेकर कोटा विधानसभा सीट पर अब तक 14 बार विधानसभा चुनाव हो चुका है। काशीराम तिवारी यहां पहले विधायक चुने गए थे, जबकि उनके बाद मथुरा प्रसाद दुबे 4 बार और राजेंद्र शुक्ला 5 बार विधायक निर्वाचित हुए हैं।

Read More : Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने छोड़ा पार्टी का साथ, इस सीट से भरा निर्दलीय नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति…

राजेंद्र शुक्ला के निधन के बाद 2006 में हुए उपचुनाव में छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय अजीत जोगी की पत्नी रेणु जोगी कांग्रेस पार्टी से चुनाव जीतीं थी और तब से लगातार 2018 को छोड़कर कांग्रेस पार्टी ही यहां जीतती आई है। 2018 में छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस पार्टी से रेणु जोगी विधायक बनीं थी। विधानसभा चुनाव की तासीर को देखा जाए तो रेणु जोगी को अगर छोड़ दें तो ज्यादातर यहां से ब्राह्मण प्रत्याशी ही चुनाव जीत कर आए हैं।

Read More : Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने छोड़ा पार्टी का साथ, इस सीट से भरा निर्दलीय नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति…

कौन कितनी बार जीता : 1952 से लेकर अब कोटा विधानसभा सीट पर 14 बार चुनाव हुए हैं। यहां काशीराम तिवारी पहले विधायक बने थे,जबकि मथुरा प्रसाद दुबे 4 बार और राजेंद्र शुक्ल 5 बार चुने गए। इसके अलावा 2006 में डॉ. रेणु जोगी यहां से विधायक बनीं। क्षेत्र की पहली महिला विधायक पिछले 3 बार से विधायक हैं।

Read More : Chhattisgarh Vidhansabha Chunav : विजय बघेल ने छोड़ा पार्टी का साथ, इस सीट से भरा निर्दलीय नामांकन, जानिए इसके पीछे की पूरी रणनीति…

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here